Zindagi Ka Kya Faisla

Zindagi Ka Kya Faisla

Kal Na Hum Honge Na Koi Gila Hoga,
Sirf Simti Hui Yaadon Ka Silsila Hoga,
Jo Lamhe Hain Chalo Haskar Bita Lein,
Jaane Kal Zindagi Ka Kya Faisla Hoga.

कल न हम होंगे न कोई गिला होगा,
सिर्फ सिमटी हुई यादों का सिलसिला होगा,
जो लम्हे हैं चलो हँसकर बिता लें,
जाने कल ज़िन्दगी का क्या फैसला होगा।

Ek Muddat Se Mere Haal Se Begana Hai,
Jaane Jalim Ne Kis Baat Ka Bura Mana Hai,
Main To Zindgi Hun To Wo Bhi Hai Ana Ka Kaidi,
Mere Kahne Par Kahan Use Chale Aana Hai,

एक मुद्दत से मेरे हाल से बेगाना है;
जाने ज़ालिम ने किस बात का बुरा माना है;
मैं जो जिंदगी हूँ तो वो भी हैं अना का कैदी;
मेरे कहने पर कहाँ उसने चले आना है।

Leave a Comment