Zindagi Ki Har Subah

Zindagi Ki Har Subah

Zindagi Ki Har Subah Kuch Sharte Le Kar Aati Hai,
Zindagi Ki Har Shaam Kuch Tajurbe De Kar Jati Hai.

ज़िन्दगी की हर सुबह कुछ शर्ते ले कर आती है,
ज़िन्दगी की हर शाम कुछ तजुर्बे दे कर जाती है।

Zindagi Ki Har Subah - Zindagi Shayari

Kuchh Dino Se Zindagi Mujhe Pahachanati Nahin
Yun Dekhti Hai Jaise Mujhe Janati Nahin.

कुछ दिनो से ज़िंदगी मुझे पहचानती नहीं
यूँ देखती है जैसे मुझे जानती नहीं।

Sirf Zinda Rahne Ko Zindagi Nahin Kahte,
Kuchh Gam-E-Mohabbat Ho Kuchh Gam-E-Jahaan.

सिर्फ़ ज़िंदा रहने को ज़िंदगी नहीं कहते,
कुछ ग़म-ए-मोहब्बत हो कुछ ग़म-ए-जहाँ।

Pareshaan To Tumhaari Tarah Ham Bhi Bahut Hain,
Lekin Muskura Ke Jeene Me Jaata Kya Hai.

परेशान तो तुम्हारी तरह हम भी बहुत हैं,
लेकिन मुस्कुरा के जीने में जाता क्या है।

Leave a Comment