Zindagi Ki Kitab Se

Zindagi Ki Kitab Se

Na Gila Hai Koi Halat Se, Na Shikayatien Kisi Ki Zat Se….
Khud He Sare Lafz Juda Ho Rahy Hain Meri Zindagi Ki Kitab Se.

न गिला है कोई हालात से, न शिकायेतें किसी की जात से…
खुद से सारे लफ्ज जुदा हो रहे हैं मेरी ज़िन्दगी की किताब से।

Leave a Comment