Zindagi Lat Hai

Zindagi Lat Hai

Zindagi Lat Hai…
Har Lamhe Se Be-Panah Mohabbat Hai,
Muskil Aur Sukun Ki Kashmkash Me,
Zindagi Yun Hi Jiye Jata Hun.

जिन्दगी लत है…
हर लम्हे से बेपनाह मोहब्बत है,
मुश्किल और सुकून की कशमकश में,
जिंदगी यूं ही जिये जाता हूँ।

Barish Me Rakh Dun Kabhi Zindagi Ko
Taaki Dhul Jaaye Panno Ki Syaahi,
Zindagi Dowara Likhne Ka
Man Karta Hai Kabhi-Kabhi.

बारिश में रख दूँ जिंदगी को 
ताकि धुल जाए पन्नो की स्याही, 
ज़िन्दगी दोबारा लिखने का 
मन करता है कभी-कभी।

Yun Hi Khatm Ho Jayega Jaam Ki Tarah
Zindagii Ka Safar,
Kadwa Hi Sahi Ek Baar To
Nashe Me Hokar Ise Piya Jaaye.

यूँ ही खत्म हो जायेगा जा़म की तरह
जिन्दगी का सफ़र,
कड़वा ही सही एक बार तो
नशे में होकर इसे पिया जाये।

Leave a Comment