Zindagi Yun Hi

Zindagi Yun Hi

Zindagi Yun Hi Bahut Kam Hai Mohabbat Ke Liye,
Fir Ek Dusre Se Rooth Kar Waqt Gawane Ki Jarurat Kya Hai.

ज़िन्दगी यूँ ही बहुत कम है, मोहब्बत के लिए,
फिर एक दूसरे से रूठकर वक़्त गँवाने की जरूरत क्या है।

Two Line Shayari - Zindagi Yun Hi

Bhari Duniya Me Koi Bhi Nazar Aata Nahi Apna,
Ek Daur Aisa Bhi Gujar Jaata Hai Insan Par.

भरी दुनिया में कोई भी नजर आता नहीं अपना,
एक दौर ऐसा भी गुजर जाता है इन्सां पर।

Mere Gulshan-E-Mohabbat Me Khijan Kahan Se Aaye,
Kabhi Usne Gul Khilae Kabhi Maine Gul Khilaye.

मेरे गुलशन-ए-मोहब्बत में ख़िजाँ कहाँ से आए
कभी उसने गुल खिलाए कभी मैंने गुल खिलाए।

Koi Ham Se Poochhe Un Ke Karam O Sitam Ka Aalam,
Kabhi Muskura Ke Roye Kabhi Ro Ke Muskuraye.

कोई हम से पूछे उन के करम ओ सितम का आलम
कभी मुस्कुरा के रोए कभी रो के मुस्कुराए।

Main Chala Sharab-Khane Jahan Koi Gam Nahin Hai,
Jise Dekhni Ho Jannat Mere Saath Mein Wo Aaye.

मैं चला शराब-ख़ाने जहाँ कोई ग़म नहीं है,
जिसे देखनी हो जन्नत मेरे साथ में वो आए।

Leave a Comment