Aalam-e-Tanhayi Hai

Aalam-e-Tanhayi Hai

Kaif Me Duba Hua Hoon Aalam-e-Tanhayi Hai,
Phir Teri Yaad Dabe Paanv Chali Aayi Hai,
Shab-e-Tareek Pe Chhayi Huyi Raanayi Hai,
Yeh Teri Zulf Ke Saaye Hain Ke Parchhayi Hai,
Tere Deewane Ko Itna Bhi Ab Hosh Nahi,
Yeh Tera Aaghosh Hai Ya Ghausha-e-Tanhayi Hai.

कैफ में डूबा हुआ हूँ आलम-ए-तन्हाई है,
फिर तेरी याद दबे पाँव चली आयी  है,
शाब-ए-तारीक पे छायी हुई रानायी है,
ये तेरे ज़ुल्फ़ के साए हैं के परछाई हैं,
तेरे दीवाने को इतना भी अब होश नहीं,
यह तेरा आगोश है या घोषा-ए- तन्हाई है।

Leave a Comment