Apna Banaya Bhi Nahi

Apna Banaya Bhi Nahi

Uski Mohabbat Ka Silsila Bhi Kya Ajeeb Silsila Tha,
Apna Banaya Bhi Nahi Aur Kisi Ka Hone Bhi Na Diya.

उसकी मोहब्बत का सिलसिला भी क्या अजीब सिलसिला था,
अपना बनाया भी नहीं और किसी का होने भी नहीं दिया।

Leave a Comment