Dil Hi Kyun Tadapta Hai

Dil Hi Kyun Tadapta Hai

Jism Uska Bhi Mitti Ka Hai Meri Tarah Aye Khuda,
Phir Bhi Mera Dil Hi Kyun Tadapta Hai Uske Liye.

जिस्म उसका भी मिटटी का है मेरी तरह ऐ खुदा,
फिर भी मेरा दिल ही क्यों तड़पता है उसके लिए।

Dil Kyun Tadapta Hai - Dil Shayari

Akl-O-Dil Apni Apni Kahein Jab ‘Khumar’
Akl Ki Suniye Dil Kaha Kijiye.

अक़्ल-ओ-दिल अपनी अपनी कहें जब ‘ख़ुमार’
अक़्ल की सुनिए दिल का कहा कीजिए।

Aur Kya Dekhne Ko Baaki Hai,
Aap Se Dil Laga Ke Dekh Liya.

और क्या देखने को बाक़ी है, 
आप से दिल लगा के देख लिया।

Aur Jikr Kya Kijie Apne Dil Ki Halat Ka,
Kuchh Bigadti Rahti Hain Kuchh Sanbhalti Hain.

और ज़िक्र क्या कीजे अपने दिल की हालत का
कुछ बिगड़ती रहती हैं कुछ सँभलती रहती हैं। 

Bada Shore Sunte The Pahlu Me Dil Ka,
Jo Cheera To Ek Katra-E-Khun Na Nikla.

बड़ा शोर सुनते थे पहलू में दिल का, 
जो चीरा तो इक क़तरा-ए-ख़ूँ न निकला।

Leave a Comment