Dosti Ka Farz Hum

Dosti Ka Farz Hum

Dosti Ka Farz Hum Yun Adaa Karte Hain,
Dost Ke Naam Par Jaan Fida Karte Hain,
Tumhe Phool Ka Zakhm Bhi Na Aane Paye,
Allah Se Roj Bas Ye Hi Dua Karte Hain.

दोस्ती का फ़र्ज़ हम यूँ अदा करते हैं,
दोस्त के नाम पर जान फ़िदा करते हैं,
तुम्हे फूल का ज़ख्म भी न आने पाए,
अल्लाह से रोज बस ये ही दुआ करते है।

Dosti To Sirf Ek Ittefak Hai,
Ye To Do Dilo Ki Mulakaat Hai,
Dosti Nahi Dekhti Ki Ye Din Hai Ki Raat Hai,
Isme To Sirf Imandaari Aur Jazbaat Hain.

दोस्ती तो सिर्फ एक इत्तेफाक है,
ये तो दो दिलों की मुलाक़ात है,
दोस्ती नहीं देखती की ये दिन है की रात है,
इसमें तो सिर्फ इमानदारी और जज़्बात है।

Aapki Duaon Se Hume Wo Sahara Mila,
Jo Mil Na Saka Wo Kinara Mila,
Kin Lafjo Me Hum Bayan Karen,
Itni Bheed Me Mujhe Dost Itna Pyara Mila.

आपकी दुआओं से हमें वो सहारा मिला,
जो मिल न सका वो किनारा मिला,
किन लफ्जों में हम बयाँ करें,
इतनी भीड़ में मुझे दोस्त इतना प्यार मिला।

Leave a Comment