Geet Ruswa Honge

Geet Ruswa Honge

Aap Bewafa Honge Kabhi Socha Hi Nahi Tha,
Aap Kabhi Khafa Honge Socha Hi Nahi Tha,
Jo Geet Likhe Humne Kabhi Pyaar Par Tere,
Wahi Geet Ruswa Honge Socha Hi Nahi Tha.

आप बेवफा होंगे कभी सोचा ही नहीं था,
आप कभी खफा होंगे सोचा ही नहीं था,
जो गीत लिखे हमने कभी तेरे प्यार पर तेरे,
वही गीत रुशवा होंगे सोचा ही नहीं था।

Kya Bataun Mera Haal Kaisa Hai,
Ek Din Gujarta Hai Ek Saal Jaisa,
Tadapta Hun Is Kadar Bewafai Me Uski,
Ye Tan Banta Ja Raha Kankaal Jaisa Hai.

क्या बताऊँ मेरा हाल कैसा है,
एक दिन गुज़रता है एक साल जैसा है,
तड़पता हूँ इस कदर बेवफाई में उसकी,
ये तन बनता जा रहा कंकाल जैसा है।

Jo Jakhm De Gaye Ho Aap Mujhe,
Na Jane Kyu Wo Jakhm Bharta Nahi,
Chahte To Hum Bhi Hain Ki Aapse Ab Na Mile,
Magr Jo Ye Dil Hai Kambakht Kuch Samajhta Hi Nahi.

जो ज़ख्म दे गए हो आप मुझे,
ना जाने क्यों वो ज़ख्म भरता नहीं,
चाहते तो हम भी हैं कि आपसे अब न मिलें,
मगर ये जो दिल है कमबख्त कुछ समझता ही नहीं।

Leave a Comment