Hum Bhi Tere Kareeb Hote

Hum Bhi Tere Kareeb Hote

Jaise Zulfon Ki Lat Hai Chehre Ke Kareeb Tere,
Kaash Hum Bhi Aaj Tere Itne Karib Hote,
Tere Phoolon Se Chehre Ko Hardam Niharte Hum,
Kaash Aisi Hoti Kismat Humari Aise Naseeb Hote.

जैसे जुल्फों की लत है चेहरे के करीब तेरे,
कास हम भी आज तेरे इतने करीब होते,
तेरे फूलों से चेहरे को हरदम निहारते हम,
काश ऐसी होती किस्मत हमारी ऐसे नसीब होते।

Leave a Comment