Jahan Bhooli Huyi Yaadein

Jahan Bhooli Huyi Yaadein

Jahan Bhooli Huyi Yaadein Daaman Thaam Le Dil Ka,
Waha Se Ajnabi Bankar Gujar Jana Hi Achha Hai.

जहाँ भूली हुई यादें दामन थाम ले दिल का,
वहाँ से अजनबी बनकर गुजर जाना ही अच्छा है।

Abhi Kuchh Din Aur Lagenge Zakhm-e-Dil Bharne Mein,
Jo Aksar Yaad Aate The Woh Kam-Kam Yaad Aate Hain.

अभी कुछ दिन और लगेंगे ज़ख्म-ए-दिल भरने में,
जो अक्सर याद आते थे वो कम-कम याद आते हैं।

Leave a Comment