Judai Ka Zahar

Judai Ka Zahar

Mukurane Ki Aadat Bhi Kitni Mahangi Padi Hamein,
Chhod Gaya Wo Ye Soch Kar Ki Hum Judai Me Khush Hain.

मुस्कुराने कि आदत भी कितनी महेंगी पड़ी हमे,
छोड़ गया वो ये सोच कर कि हम जुदाई में खुश हैं।

Tere Jaane Ke Baad Sanam Mere,
Sochta Hun Ke Kaise Jiyunga Main,
Tujhse Kiya Hai Isi Liye Wada,
Yeh Judai Ka Zahar Bhi Piyunga Main.

तेरे जाने के बाद सनम मेरे,
सोचता हूँ के कैसे जिऊंगा मैं,
तुझसे किया है इसी लिए वादा,
ये जुदाई का ज़हर भी पिऊंगा मैं।

Leave a Comment