Majboorian Odh Kar

Majboorian Odh Kar

Main Majboorian Odh Kar Nikalata Hu Ghar Se Aaj Kal,
Varna Shauk To Aaj Bhi Hai Baariso Me Bheegne Ka.

मैं मजबूरियां ओढ़ कर निकलता हूँ घर से आज कल,
वरना शौक तो आज भी है बारिशों में भीगने का।

Leave a Comment