Na Gam-e-Nijaat Ki Aarzoo

Na Gam-e-Nijaat Ki Aarzoo

Na Khushi Ki Talaash Hai Na Gam-e-Nijaat Ki Aarzoo,
Main Khud Se Bhi Naraaj Hun Teri Naraajgi Ke Baad.

न खुशी की तलाश है न गम-ए-निजात की आरजू,
मैं खुद से भी नाराज़ हूँ तेरी नाराजगी के बाद।

Aarzoo Shayai - Gham E Nijaat Ki Arzoo

Chhod Di Humne Humesa Ke Liye Uski Aarzoo,
Jise Mohabbat Ki Kadr Na Ho Use Duaaon Me Kya Mangna.

छोड़ दी हमने हमेशा के लिए उसकी आरजू करना.,
जिसे मोहब्बत की कद्र ना हो उसे दुआओ में क्या मांगना।

Sar Se Laga Ke Paaon Talak Dil Hua Hun Main,
Yahan Tak To Fan-E-Ishq Me Kamil Hua Hun Main.

सर से लगा के पाँव तलक दिल हुआ हूँ मैं,
यहाँ तक तो फ़न-ए-इश्क़ में कामिल हुआ हूँ मैं।

Uljhi Si Zindagi Ko Sawarne Ki Aarzoo Me Baithe Hain,
Koi Apna Dikh Jaaye Shayad Use Pukarne Ko Baithe Hain.

उलझी सी ज़िन्दगी को सवारने की आरजू में बैठे हैं,
कोई अपना दिख जाए शायद उसे पुकारने को बैठे है।

Leave a Comment