Tanhayi Ke Mausam

Tanhayi Ke Mausam

Kya Lajawab Tha Tera Mujhe Chhorh Ke Jana,
Bhari Bhari Aabkhon Se Muskuraye The Hum,
Ab To Sirf Main Hun Aur Teri Yaadein Hain,
Gujar Rahe Hain Yun Hi Tanhayi Ke Mausam.

क्या लाजवाब था तेरा मुझे छोड़ के जाना,
भरी भरी आँखों से मुस्कराए थे हम,
अब तो सिर्फ मैं हूँ और तेरी यादें हैं,
गुजर रहे हैं यूँ ही तन्हाई के मौसम। 

Leave a Comment