Teri Aankhein Dekhkar

Teri Aankhein Dekhkar

Uski Kudrat Dekhta Hun Teri Aankhein Dekhkar,
Do Piyalon Me Bhari Hai Kaise Lakhon Man Sharab.

उसकी कुदरत देखता हूँ तेरी आँखें देखकर,
दो पियालों में भरी है कैसे लाखों मन शराब।

Jaane Kya Kashish Hai Tumahri Aankhon Me,
Najar Andaaz Jitna Karo Najar Tumhi Pe Hi Padti Hai.

जाने क्या कशिश है तुम्हारी मदहोश आँखों में,
नज़र अंदाज़ जितना करो नज़र तुम्हीं पे ही पड़ती है।

Aa Gaya Hai Fark Tumahri Najro Me Yakinan,
Ab Ek Khash Andaaz Se Najarandaz Karte Ho.

आ गया है फर्क तुम्हारी नज़रों में यकीनन,
अब एक खास अंदाज़ से नज़रअंदाज़ करते हो।

Najar Tumhari Kabhi Jo Uthe Hamari Taraf,
Najar Andaaz Hi Kar Lena Hume Jee Bhar Kar.

नज़र तुम्हारी कभी जो उठे, हमारी तरफ ,
नज़र अन्दाज़ ही कर लेना, हमें जी भर कर।

Leave a Comment