Wo Bhi Badal Gaya

Wo Bhi Badal Gaya

Gujre Dino Ki Bhuli Huyi Baat Ki Tarah,
Aankho Me Jagta Hai Koyi Raat Ki Tarah,
Us Se Umeed Thi Ki Nibhayega Saath Wo,
Wo Bhi Badal Gaya Mere Halaat Ki Tarah.

गुजरे दिनों की भूली हुई बात की तरह,
आँखों में जगता है कोई रात की तरह,
उससे से उम्मीद थी कि निभाएगा साथ वो,
वो भी बदल गया मेरे हालत की तरह।

Leave a Comment