Zehar Judai Ka

Zehar Judai Ka

Aao Kisi Roz Mujhe Toot Ke Bikharta Dekho,
Meri Rago Me Zehar Judai Ka Utarata Dekho,
Kis Kis Adaa Se Tujhe Manga Hai Khuda Se,
Aao Kabhi Mujhe Sazado Me Siskata Dekho.

आओ किसी रोज मुझे टूट के बिखरता देखो,
मेरी रगों में ज़हर जुदाई का उतरता देखो,
किस किस अदा से तुझे मागा है खुदा से,
आओ कभी मुझे सजदो में सिसकता देखो।

Koi Rishta Naya Ya Purana Nahi Hota,
Zindagi Ka Har Pal Suhana Nahi Hota,
Juda Hona To Kismat Ki Baat Hai,
Par Judai Ka Matlab Bhulana Nahi Hota.

कोई रिश्ता नया या पुराना नहीं होता,
जिंदगी का हर पल सुहाना नहीं होता,
जुदा होना तो किस्मत कि बात है,
पर जुदाई का मतलब भुलाना नहीं होता।

Har Mulakaat Par Waqt Ka Takaza Hua,
Har Yaad Par Dil Ka Dard Taaza Hua,
Suni Thi Sirf Logo Se Judai Ki Baate,
Ab Khud Par Beeti To Hakeekat Ka Andaza Hua.

हर मुलाकात पर वक़्त का तकाजा हुआ,
हर याद पर दिल का दर्द ताज़ा हुआ,
सुनी थी सिर्फ लोगो से जुदाई की बातें,
अब खुद पर बीती तो हकीकत का अंदाज़ा हुआ।

Leave a Comment